जनमाष्टमी के व्रत में खाएं ये 5 चीजें, फिट और एनर्जेटि​क रहने के साथ देखेंगे फ्रेश

0
145

भगवान श्रीकृष्ण के जन्म का पर्व जन्माष्टमी भारत वर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है। कुछ लोग इस दिन पूरे दिन का व्रत रखते है और कृष्‍ण जन्‍म के पश्‍चात कन्‍हैया को कुछ मीठा भोग लगाकर खुद भी गृहण करते हैं। तो क्‍यों न इस बार व्रत को खोलने के लिए बाजार से मिठाई खरीदने की बजाय अपने हाथों से कुछ बनाकर कन्‍हैया को खिलाया जायें। अगर आप भी यही सोच रहीं है कि इस बार जन्‍माष्‍टमी में कन्‍हैया और खुद के लिए व्रत खोलने के लिए क्‍या बनाया जायें तो, हम आपके लिए कई स्वीट डिश लेकर आयें है। जो आपको स्‍वादिष्‍ट लगने के साथ आपकी सेहत का भी ख्‍याल रखेंगी।

इन चीजों को खाएं और रहे एनर्जेटिक

  • एनर्जिक रहने के लिए महाशिवरात्रि के दिन अपने फलाहार में मखाने और मूंगफली को शामिल करें। इसे खाने से पेट हल्‍का रहता है और आप पूरे दिन ताजा महसूस करते हैं। मूंगफली विटामिन और मखाने कैल्शियम से भरपूर होते हैं। आप मखाने की खीर बना सकते हैं या मखाने या मूंगफली को फ्राई करके खा सकते हैं।
  • ठंडाई पेट के लिए बहुत अच्‍छी होती है और इससे आपको तुरंत एनर्जी मिलती है। दूध से बनी ठंडाई में कैल्शियम और प्रोटीन भरपूर मात्रा में होता है। बादाम, पिस्ता, काजू, कई तरह के ड्राई फ्रूट्स डालकर ठंडाई बनाई जाती है। साथ ही इसमें इलायची भी डाली जाती है। व्रत के दौरान दिन में एक या दो बार ठंडाई पीने से पेट ठंडा रहता है।
  • एनर्जी से भरपूर रहने के लिए आप इस दिन फल और फलों के जूस का भी सेवन कर सकते हैं। इस दौरान संतरे बहुत मिलते हैं, आप चाहें तो संतरे का जूस या अनानास का जूस भी पी सकते हैं। फल में आप बेर और पपीता खा सकते हैं। अनानास एंटी-ऑक्‍सीडेंट, विटामिन सी, फॉलेट, बीटा-कैरॉटिन और दूसरे न्‍यूट्रिएंट्स से भरपूर होता है, अनानास में भरपूर मात्रा में फाइबर भी होता है, जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और संतरे में काफी मात्रा में घुलनशील फाइबर होते हैं।
  • कुट्टू के आटे के चीले या इसके परांठे भी बना सकते हैं। आप चीले में खीरा या घीया खिसकर भी मिला सकते है। यह हेल्‍दी होने के साथ आपको ऊर्जावान रखेगा। या आप सिंघाड़े के आटे से कटलेट बना सकते हैं। कई सब्जियों को घिस लें जैसे गाजर, आलू और शिमला मिर्च और नमक हरी मिर्च मिलाकर उस मिश्रण को गोला बनाकर तेल में फ्राइ कर लें। सब्जियों से भरपूर होने के कारण इस कटलेट में फाइबर काफी मात्रा में होता है।
  • शिवरात्रि के दौरान आप आलू से बनी चीजें भी खा सकते हैं, जैसे आलू की चाट या दही आलू। आलू में विटामिन सी की मात्रा अच्छी होती है। आलू शुगर का अच्छा स्रोत होता है। इसलिए आलू का सेवन एनर्जी देने के लिए अच्छा होता है। या आप आलू भरके टिक्की भी बना सकते हैं। इससे आपको भरा हुआ सा भी महसूस होता है।

ये लोग न रखें ब्रत

  • नवरात्र के व्रत में दिन में केवल फल खाये जाते हैं या शाम को ही सेंधा नमक से बना सात्विक खाना खाया जाता है। जबकी पूरा दिन भूखा रहने से डायबिटीज़ के मरीजों में लो ब्लड शूगर का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए डायबिटीज़ के मरीजों के लिए पूरे दिन भूखा रहना खतरनाक माना जाता है। इस कारण से डायबिटीज़ के मरीजों के लिए किसी भी तरह का व्रत रखना खतरनाक माना जाता है और नवरात्र के व्रत तो उन्हें बिल्कुल भी नहीं रखने चाहिए।
  • जिनका ब्लड प्रेशर हाई रहता है उन्हें भी किसी भी तरह का व्रत नहीं करना चाहिए। पूरे दिन भूखे रहने पर हाई बीपी के मरीजों का बॉडी सिस्टम बिगड़ जाता है जिससे उनकी जान खतर में पड़ सकती है। पूरा दिन भूखा रहने पर हाई बीपी के मरीजों के स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ सकता है। इसी तरह जिनको लंग्स की समस्या है उन्हें भी उपवास नहीं रखने चाहिए।
  • दिल के मरीजों के लिए किसी भी तरह का व्रत रखना दुष्कर माना जाता है। वैसे भी दिल की बीमारी में खानपान का विशेष ध्यान रखना पड़ता है और उसकी दवाईयां भी खाली पेट नहीं खाई जा सकती। वैसे भी व्रत के दौरान पूरे दिन भूखा रहकर शाम को अचानक खाने से कोलेस्ट्रॉल और बीपी के बढ़ने का खतरा होता है जो दिल के मरीजों के लिए घातक हो सकता है।
  • एनीमिया के मरीजों को भी उपवास नहीं रखने चाहिए। जिन लोगों के शरीर में खून की कमी हो या जिनके खून में हीमोग्लोबिन की कमी होती है उन्हें उपवास नहीं रखने चाहिए। इससे शरीर में कमजोरी व थकान बढ़ जाती है। इसी तरह वो इंसान जो किडनी से जुड़ी बीमारी से ग्रस्त हैं उसे भी उपवास नहीं रखने चाहिए।
  • उन मरीजों को भी उपवास नहीं रखने चाहिए जिनके हाल-फिलहाल में सर्जरी हुई है। इन दौरान बॉडी को कई सारे मिनरल्स और विटामिन्स की जरूरत होती है जो केवल सात्विक खाने और जूस से प्राप्त नहीं हो सकती। साथ ही इस दौरान ली जाने वाली दवाईयां भी खाली पेट खाने से खतरनाक स्थिति पैदा होने हो सकती है। इसलिए जिन लोगों की हाल में सर्जरी हुई है उन्हें उपवास बिल्कुल भी नहीं करने चाहिए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

seven − 5 =