बालों का झड़ना और गंजेपन से मुक्ति पायें हेयर थेरेपी से Ganjapan Ka Upchar

0
114

बालों का झड़ना (Balon Ka Jhadna) और गंजेपन से मुक्ति पायें हेयर थेरेपी से Ganjapan Ka Upchar

अगर आप अपने गंजेपन से मुक्ति चाहती है तो आज कुछ ऐसी थेरेपीज़ बाजार में मौजूद है जिससे गंजेपन से छुटकारा मिल जाता है और आपके सिर के बाल फिर आ जाते है, वो कैसे आइए जाने-

र किसी को गंजेपन की समस्या (Ganjepan Ki Samasya) से डर लगता है. जाहिर है कि आज भी प्रदूषण युक्त माहौल में बालों का गिरना आम हो गया है और इसी वजह से गंजेपन की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. इस तरह की समस्या सिर्फ आम आदमी को ही नहीं होती वरन हमारे अभिनेताओं, राजनेताओं व अन्य क्षेत्रों से जुड़े लोगो को भी हो रही है. पर आज के समय में हेयर की इतनी प्रकार की थेरेपी आ गई है कि चिंता करने की जरूरत नहीं.

हर स्त्री और पुरुष की दिली ख़्वाहिश होती है कि उसके बाल घने, लंबे, चमकदार और खूबसूरत दिखे, क्योंकि बालों का सीधा संबंध हमारे व्यक्तित्व से है. इसलिए बालों की वजह से अब परेशान होने की जरूरत नहीं है. अब बालों का इलाज संभव है. बाल न उगने की स्थिति में कृत्रिम बालों का पैच सिर पर ऐसा लगाया जाता है कि वे असली लगते है, इसके अलावा, चंद घंटों मे बालों को मनचाहा लंबा भी किया जा सकता है. दवाओं से स्वयं के बालों को उगाया भी जा सकता है व ट्रांसप्लांट भी किया जाता है. यानि तरह तरह की थैरेपीज़ मौजूद है.

इसके अलावा हेयर क्लीनिक पर हेयर ट्रीटमेंट के लिए मुख्यतः तीन प्रकार की थेरेपीज़ अपनाई जाती है.

पहली थेरेपी है कि यदि बाल खोपड़ी के कुछ हिस्से पर न हों और वहाँ पर सर्जिकल मैथड से बाल लगाने हों, दूसरा यदि सर्जिकल मैथड अपनाना हो और तीसरा बाल झड़ रहे हों, या गंजे हो गई हो तो कारण जानकर खोपड़ी पर बाल लगाने के लिए दवा का प्रयोग किया जाता है.

इसके अलावा हेयर एक्सटेंशन भी किया जाता है. इस क्लीनिक पर फिल्म जगत से जुड़े लोग, राजनेताओं आदि ने भी ट्रीटमेंट लिया है और सभी संतुष्ट रहे है.

स्थाई गंजेपन के लिए ट्रीटमेंट Permanent Ganjapan Ke Liye Treatment

स्थाई गंजेपन होने के कई प्रमुख कारण होते है, जैसे- वंश या पीढ़ी से आना, जिसमे कही भी गुंजाइश नहीं कि बाल आ जाएंगे.

दूसरे आगे के हिस्से में या खोपड़ी के बीच में अथवा पीछे गंजापन आ जाना, इसके अलावा गंजेपन का ट्रीटमेंट चल रहा हो व उस समय तक बालों का पैच लगाना हो.

कारण कुछ भी हो इसके लिए दो प्रकार की हेयर थेरेपी होती है, एक तो सर्जिकल दूसरा नॉन सर्जिकल.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

one × 1 =